कोरोना महामारी के ख़ात्मे के लिए चिरागो से रोशन हुई गरीब नवाज़ की दरगाह, 21 हजार दीये जलाए - Jan Manthan : latest news In Hindi , English
breaking news corona update corona update rajasthan अजमेर

कोरोना महामारी के ख़ात्मे के लिए चिरागो से रोशन हुई गरीब नवाज़ की दरगाह, 21 हजार दीये जलाए

जनमंथन, अजमेर। देश में कोरोना महामारी के ख़ात्मे के लिए अजमेर में ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह को चिरागों से रोशन किया गया। रविवार को दरगाह में रात 10 बजे चिश्तिया सूफी मिशन की ओर से 21 हजार दिये जलाए गए। इस दौरान मिशन ने अजमेर शरीफ की दरगाह पर देश को कोरोना महामारी के संकट से बचाने की दुआ भी की।
चिश्तिया सूफी मिशन अध्यक्ष दरगाह ख़ादिम यासिर गुर्देजी ने कहा कि कोरोना वायरस से सारी दुनियां के साथ ही हमारे मुल्क के लोग मुश्किल में जीने को मजबूर है। उऩ्होंने कहा कि कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ रहा है जिससे जन-जीवन भी अस्त व्यस्त हो रहा है। उन्होंने बताया कि चिरागों की यह रोशनी उम्मीदों और खुशहाली की रोशनी है जो इस नापाक कोरोना वायरस का देश से ख़ात्मा जरुर करेगी। 
कोरोना महामारी के चलते देश में लॉकडाउन है और इस दौरान जायरीनों और आम-आदमी का दरगाह में प्रवेश वर्जित है। इसी वजह यह 21000 दीये रात 10 बजे बाद जलाए गए। इस रस्म के दौरान पास धारी ख़ादिम ही मौजूद रहे और सभी ने दरगाह परिसर के प्रमुख स्थलों पर दीये जलाए। देर रात जलाए इन दीयों ने दरगाह जगमगा उठी। चिरागों से जगमगाई दरगाह का भव्य नज़ारा देखने लायक था। इन चिरागों का जलना कोरोना से हिफाज़त को लेकर खुदा से इल्तजा महज ना था बल्कि ज़माने की आदमजात को अमन चैन का पैगाम भी था। दरगाह में मौजूद ख़ादिमों में खुदा से इस कोरोना महामारी के खात्मे के लिए इबादत की। बता दें कि दरगाह में दीपक जलाने की यह रस्म पहले 30 मई को होनी थी लेकिन दरगाह कमेटी ने इसे सुरक्षा कारणों के चलते स्थगित कर दिया था। 

Related posts