कवियित्री मधु शर्मा की कविताओं ने जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में घोला काव्य रस - Jan Manthan : latest news In Hindi , English
February 24, 2020
जयपुर राजस्थान

कवियित्री मधु शर्मा की कविताओं ने जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में घोला काव्य रस

जनमंथन, जयपुऱ। साहित्य के महाकुंभ जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में रविवार को कवियित्री मधु शर्मा ने काव्य का रस घोल दिया। कवियित्री मधु शर्मा की कविताएं ज़िन्दगी के अहसासों को समझकर उसे कविता के रूप में कही गयी है, ऐसा प्रतीत होता है। उनकी कविताएं ज़िन्दगी से जुड़े रिश्तों का ताना बाना है। कवियित्री का मन संवेदनशील मोह के धागों को पकड़ कर रखता भी प्रतीत होता है। बातचीत के दौरान कवियित्री ने बताया कि स्कूल के समय से उन्हें लिखने का शौक रहा है और धीरे धीरे समय के साथ लेखन ने ज़िन्दगी के अनुभवों से परिपक्वता भी हासिल कर ली। रिश्ते उनकी ज़िन्दगी में बहुत अहमियत रखते है और सबसे खूबसूरत रिश्ता एक माँ से अपने बच्चे का होता है।

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में पेश की गई एक मार्मिक कविता में मधु ने सीमा पर देश की रक्षा कर रहे सैनिक द्वारा शहादत के पूर्व अपनी मां और परिजनों को लिखे संदेश में अपने मन के भावों को किस तरह व्यक्त किया। मधु ने उसे बड़े मार्मिक तरीके से दिल की गहराइयों तक छूने वाले शब्दों में पिरोया है। 

बता दें कि कवियित्री मधु शर्मा होम साइन्स में एम.एस.सी हैं और चाइल्ड डवलपमेंट इनका सब्जेक्ट रहा है। बचपन से लेकर कॉलेज तक खेलकूद में इनकी रूचि रही है। लान टैनिस में स्कूल टाइम में भी इन्होंने राजस्थान का प्रतिनिधित्व किया। विवाह बंधन में बंधने के बाद हिन्दी में एमए किया फिर वोकल म्यूजिक में विशारद किया। मॉस कम्युनिकेशन में डिप्लोमा भी किया है। दूरदर्शन पर भी वे प्रोग्राम एंकर और न्यूज़ रीडर रह चुकी हैं। 

Related posts