जयपुर बिज़नेस राजस्थान

राजस्थान के बांसवाड़ा, डूंगरपुर, सीकर, बारां और सिरोही में 5 क्ल्स्टर स्वीकृत

जनमंथन, जयपुर। एमएसएमई सचिव नवीन महाजन ने बताया है कि राज्य में बांसवाड़ा में टेराकोटा, डूंगरपुर में बासं टोकरी क्लस्टर विकास कार्यक्रम सहित पांच जिलों में करीब 15 करोड़ की लागत के 5 क्लस्टर विकसित किए जाएंगे। महाजन ने बताया कि बांसवाड़ा में टेराकोटा, डूंगरपुर में बांस टोकरी, सिरोही, बारां और सीकर में रीको द्वारा आधारभूत सुविधाओं के अपग्रेडेशन के काम के लिए राज्य स्तरीय समिति एसएलईसी ने क्लस्टर स्वीकृत कर दिए हैं। उन्होंने बताया कि इससे क्लस्टर आधार पर परंपरागत शिल्प का विकास और मार्केटिंग के साथ ही देष-विदेष में पहचान दिलाई जा सकेगी।

महाजन ने बताया कि बांसवाड़ा व डूंगरपुर के परंपरागत दस्तकारों द्वारा तैयार किए जा रहे टेराकोटा और बांस दस्तकारों के स्वयं सहायता समूह बनाकर स्किल अपग्रेडेशन, डिजाइन व तकनीकी प्रशिक्षण, उत्पादन कार्यशाला के साथ ही स्थानीय से लेकर राज्य और राष्ट्रीय स्तर की प्रदर्शनियों में उत्पादों के प्रदर्शन और बिक्री की व्यवस्था करवाई जाएगी। उन्होंने बताया कि इस क्लस्टर कार्यक्रम में मार्केट टेक्नोलॉजी वर्कशॉप, बायर्स-सेलर्स मीट, एक्सपोजर विजिट और ईडीपी कार्यक्रम सहित विभिन्न विस्तार कार्य किए जाएंगे जिससे बासंवाड़ा की टेराकोटा और डूंगरपुर के बांस-छाबड़ी दस्तकारों को नई दिशा और नया बाजार मिल सकेगा। एमएसएमई सचिव महाजन ने बताया कि इसी तरह से रीको द्वारा सिरोही, बारां और सीकर में आधारभूत सुविधाओं के अपग्रेडेशन के क्लस्टर संचालित किए जाएंगे।

उद्योग आयुक्त डॉ. समित शर्मा ने बताया कि राज्य स्तरीय समिति ने बांसवाड़ा के टेराकोटा क्लस्टर के लिए एक करोड़ 12 लाख रु., डूंगरपुर के बांस क्लस्टर के लिए एक करोड़ 13 लाख रु., सिरोही में आधारभूत सुविधाओं के अपग्रेडेषन के लिए 4 करोड़ 11 लाख, बारां में आधारभूत सुविधाओं के अपग्रेडेषन के लिए 3 करोड़ 73 लाख और सीकर में आधारभूत सुविधाओं के अपग्रेडेषन के लिए 5 करोड़ 14 लाख रु. की क्लस्टर परियोजना स्वीकृत की है। उन्होंने बताया कि सिरोही, बारां और सीकर के आईआईडी क्लस्टर का संचालन रीको द्वारा किया जाएगा। डॉ. शर्मा ने बताया कि प्रदेश में क्लस्टर आधारित औद्योगिक विकास एप्रोच की संभावनाओं को तलाश कर विस्तारित किया जाएगा।

द्रव्यवती नदी परियोजना पूरा करने के लिए डेडलाइन 15 सितंबर

प्रदेश में क्लस्टर एप्रोच आधारित औद्योगिक विकास की संभावनाओं को तलाषने के लिए आज एमएसएमई सचिव नवीन महाजन ने उद्योग भवन में एक बैठक ली। बैठक में ग्रांट थ्रोनटोन के ईडी वी पद्मानंद ने केन्द्र सरकार के क्लस्टर विकास कार्यक्रम और अन्य प्रदेशों में क्लस्टर विकास पर प्रजेंटेशन दिया। इस अवसर पर संयुक्त निदेशक संजीव सक्सैना, सीएल वर्मा, सहायक निदेशक आरके नागर, केन्द्र सरकार के डीआई एमएसएमई के उपनिदेशक विकास गुप्ता और सहायक निदेशक अजय शर्मा ने भी हिस्सा लिया।

Related posts