मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने मतदाता सूचियों के संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम में की राजनीतिक दलों से सहयोग की अपील - Jan Manthan : latest news In Hindi , English
जयपुर राजस्थान

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने मतदाता सूचियों के संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम में की राजनीतिक दलों से सहयोग की अपील

जनमंथन, जयपुर। मुख्य निर्वाचन अधिकारी अश्विनी भगत ने राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों से कहा है कि वे मतदाता सूचियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम में सक्रिय सहयोग कर पात्र व्यक्तियों के ज्यादा से ज्यादा नाम मतदाता सूचियों में जुड़वाकर लोकतंत्र के उत्सव में अहम भूमिका निभाएं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी बुधवार को शासन सचिवालय में मतदाता सूचियों के द्वितीय विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्य अर्हता तिथि 01 जनवरी 2018 के क्रम में मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि मतदाता सूचियों के प्रारूप का प्रकाशन 31 जुलाई, 2018 को किया जाएगा तथा 31 जुलाई से 21 अगस्त तक दावे और आपत्तियां प्राप्त की जाएंगी। राजनैतिक दलों के बूथ स्तरीय अभिकर्ताओं के साथ दावे और आपत्तियांें के आवेदन प्राप्त करने के लिए 12 और 19 अगस्त को विशेष तिथियां भी रखी गई हैं। उन्होंने कहा कि 27 सितंबर, 2018 को मतदाता सूचियों का अंतिम प्रकाशन कर दिया जाएगा और वही मतदाता सूची चुनाव में काम ली जाएगी।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि मतदाता सूचियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम में राजनीतिक दलों की सक्रिय भूमिका अपेक्षित है। उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम के संदर्भ में राज्य के सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए जा चुके है। उन्होंने यह भी कहा कि विभाग की ओर से इस कार्यक्रम के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार के पूरे प्रयास किये जा रहे है। विभाग का प्रयास है कि अर्हता तिथि 01 जनवरी 2018 को जो भी पात्र व्यक्ति 18 वर्ष की आयु के हो जाये वे मतदाता सूची में शामिल हों।

चर्चा के दौरान सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने आश्वस्त किया कि वे भी इस कार्यक्रम के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करेंगे ताकि मतदाता सूची में पात्र व्यक्तियों के नाम जुड़ सकें। इस दौरान किसी भी राजनीतिक दल के प्रतिनिधि ने मतदाता सूची में फर्जी नाम जोड़ने जैसी कोई शिकायत नहीं की।

लाखों की तादात में दिव्यांगजन कर सकते हैं मतदान
भगत ने कहा कि इस बार चुनाव की थीम ‘सुगम मतदान‘ रखी है। उन्होंने कहा प्रदेश भर में 10 लाख से ज्यादा दिव्यांगजन हैं। इनमें से 5 लाख से ज्यादा दिव्यांगजनों को निर्वाचन विभाग ने पंजीकृत कर लिया है बाकी को भी जोड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले विधानसभा में 17 हजार से ज्यादा दिव्यांगजनों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। उन्होंने राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से अपील की कि सभी के सामूहिक प्रयास रहेंगे तो इस बार यह आंकड़ा लाखों में जा सकता है।

राजनैतिक दल एफएलसी प्रक्रिया का करें निरीक्षण
उन्होंने कहा राज्य के विभिन्न जिला मुख्यालयों पर 18 जून से ईवीएम की एफएलसी का कार्य बीईएल, बैंगलौर के इंजीनियर्स द्वारा करवाया जा रहा है, जो कि आगामी 31 जुलाई तक पूरा करा लिया जाएगा। उन्होंने सभी प्रतिनिधियों से इसमें शामिल होने और निरीक्षण करने का भी आग्रह किया।

बैठक में बहुजन समाज पार्टी के देवीलाल, भारतीय जनता पार्टी के नाहरसिंह माहेश्वरी और बबीता शर्मा, कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इण्डिया (मार्क्ससिस्ट) के गुरचरन सिंह, इंडियन नेशनल कांग्रेस के राघवेंद्र पारीक ने भाग लिया।

इस दौरान निर्वाचन विभाग के संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी सुरेन्द्र माहेश्वरी, उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी विनोद पारीक, उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी (आईटी) एमएम तिवारी, विशेषाधिकारी हरिशंकर गोयल, मुख्य लेखाधिकारी सुभाष दानोदिया समेत कई अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Related posts