जयपुर के फिल्म निर्माता की शॉर्ट फिल्म इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ साउथ एशिया में होगी प्रदर्शित - Jan Manthan : latest news In Hindi , English
January 17, 2019
एंटरटेनमेंट जयपुर बॉलीवुड राजस्थान

जयपुर के फिल्म निर्माता की शॉर्ट फिल्म इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ साउथ एशिया में होगी प्रदर्शित

जनमंथन, जयपुर। जयपुर के फिल्म निर्माता, तन्मय सिंह की फीचरेट फिल्म ‘मैरीलिन लाइट्स‘ को टोरेंटो में होने वाले इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ साउथ एशिया (आईएफएफएसए) के 7वें एडिशन के लिए चुना गया है।

20 मिनट की यह सम्पूर्ण फिल्म जयपुर में शूट की गई है, जो मिस इंडिया 2004 की विजेता सयाली भगत की अभिनय में वापसी को दर्शाएगी। सुहास आहुजा और श्रुति गुप्ता इस फिल्म के अन्य प्रमुख कलाकार हैं। ब्रैम्पटन में 18 मई को इस फिल्म का प्रीमियर शो होगा।

उल्लेखनीय है कि ‘आईएफएफएसए टोरंटो 2018‘ 10 मई से 21 मई तक आयोजित किया जाएगा। इस फेस्टिवल में प्रत्येक वर्ष बड़ी संख्या में फिल्में शामिल होती हैं, जिससे फिल्मों के चयन की प्रक्रिया अत्यंत कठिन होती जा रही है। अपने 7वें संस्करण के साथ यह फेस्टिवल इंटरनेशनल आइकन के साथ-साथ कनाड़ा में दक्षिण एशियाई सिनेमा की आवाज बन चुका है।

गौरतलब कि मुम्बई में रह रहे तन्मय सिंह गत 10 वर्षो से प्रसिद्ध क्राइम सीरियल ‘सीआईडी‘ के लिए लिख रहे हैं। वे सावधान इंडिया, आहट, अदालत सहित कई प्रसिद्ध सीरियल्स के लिए भी लिख चुके हैं। ‘मैरीलिन लाइट्स‘ तन्मय सिंह की दूसरी शॉर्ट फिल्म है। वर्ष 2011 में उनकी पहली शॉर्ट फिल्म ‘मास्टरपीस‘ का जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में प्रीमियर किया गया था। इस फिल्म में प्रसिद्ध अभिनेत्री प्रीती झंगियानी मुख्य किरदार में थी, जो निस्संदेह उनकी फिल्मों में वापसी भी थी।

नीचे देखिए फिल्म का ट्रेलर:

फेस्टिवल के बारे में अधिक जानकारी:
आईएफएफएसए टोरंटो (http://www.iffsatoronto.com/) उत्तरी अमेरिका में आयोजित किया जाने वाला सबसे बड़ा दक्षिण एशियाई फिल्म फेस्टिवल है। 12 से अधिक दिनों तक चलने वाले इस भव्य फेस्टिवल में दक्षिण एशियाई संस्कृतियों एवं पहचान पर आधारित और दुनियाभर से शामिल होने वाली विभिन्न प्रकार की, विविध भाषाओं की चयनित फीचर फिल्में, फीचरेट फिल्में, शॉर्ट फिल्में, डॉक्यूमेंट्रीज और म्यूजिक मूवीज प्रदर्शित की जाती हैं।

‘वसुधैव कुटुम्बकम – पूरी दुनिया एक परिवार है‘ की भावना के तहत इस फेस्टिवल में दक्षिण एशिया के अतिरिक्त कुछ चुनिंदा विदेशी फिल्में भी शामिल की जाती हैं।

Related posts