November 16, 2018
अनोखी दुनिया जयपुर बिज़नेस राजस्थान

चर्चाओँ में है चांदी की यह मैटरनिटी चेयर, जयपुर ज्वैलरी शो में गर्भवती महिलाओं को आ रही पसंद

जनमंथन, जयपुर। जवाहरात और जैम्स स्टोन कारोबारियों का मेला जयपुर ज्वैलरी शो -2017 अपने अनूठे संकलन के लिए जाना जाता है। जयपुर के सीतापुरा स्थित जेईसीसी में इस बार जेजेएस का 14 वां एडिशन चल रहा है। और यहां 800 से ज्यादा बूथ्स में दुनियांभर की ज्वैलरी का अद्भुत कलेक्शन मौजूद है। रूबी रेड, रेयर एंड रॉयल थीम पर सजे इस विशाल एग्जिबिशन में विजिटर्स रंगीन स्टोन्स के बीड्स और मणियों की पिरोए हुई स्ट्रींग्स में काफी रुचि दिखा रहे हैं। कुंदन मीनाकारी के साथ ही सोने, चांदी में लाइट और हैवी ज्वैलरी भी बॉयर्स को काफी लुभा रही है।

महंगाई और मांग से परे कुछ सिरफिरे ज्वैलर्स इस शो में आकर्षण का केन्द्र बने हुए हैं। चांदी से ओल्ड थीम पर रॉयल फर्निशिंग उत्पाद, मूर्तियां और डेकोरेटिव आइटम बनाने वाले मिस इंडिया ज्वैलर उन्हीं में से एक हैं। वैसे तो चांदी का झूला, चांदी की देवी-देवताओं की प्रतिमा, मंदिर और बर्तन में ये सबसे ज्यादा पारंगत हैं। लेकिन इस बार ये चांदी की मैटरनिटी चेयर बनाकर चर्चाओं में हैं। यह मैटरनिटी चेयर 99 फीसदी शुद्ध चांदी की बनी हुई है जिसमें गर्भवती महिला के लेटने. डॉक्टर के खडे होने से लेकर तमाम सुविधाएं उपलब्ध हैं।

मिस इंडिया के डायरेक्टर सतीश लश्करी ने कहा कि चांदी की इस मैटरनिटी चेयर बनाकर हमने “चाइल्ब बोर्न विद द गोल्डन स्पून” सोच को बदलकर चाइल्ड बोर्न विद द सिल्वर चेयर करने का प्रयास किया है। बता दें कि चांदी के अनोखे उत्पाद बनाने के लिए विख्यात सतीश लश्करी जयपुर के ही रहने वाले हैं। जयपुर के एमआई रोड पर इनका “मिस इंडिया” शोरुम संचालित है।

खास बात यह है कि देशी-विदेशी विजिटर्स इस बार इस शो में भारी संख्या में आ रहे हैं। यह चांदी की बनी मैटरनिटी चेयर सभी का आकर्षण बनी हुई है। कई गर्भवती महिलाएं भी इस चांदी की मैटरनिटी चेयर को देखने के लिए आ रही हैं। ज्योतिष के जानकारों का भी यह कहना है कि चांदी की शैय्या पर प्रसव कराने से संतान शांत मन की, बुद्धिमान और बलवान होती है। पंडित मोहन पारीक के मुताबिक पहले चांदी शाही परिवारों की महिलाओं का प्रसव इसीलिए चांदी की शैय्या पर कराया जाता था।

वीडियो में देंखें क्यों बनाई सतीश लश्करी ने यह मैटरनिटी चेयरः

Related posts

1 comment

Comments are closed.