भाजपा नेता और बीसूका उपाध्यक्ष दिगंबरसिंह का निधन, केबिनेट में शोक प्रस्ताव पारित - Jan Manthan : latest news In Hindi , English
February 6, 2019
जयपुर पॉलिटिक्स राजस्थान

भाजपा नेता और बीसूका उपाध्यक्ष दिगंबरसिंह का निधन, केबिनेट में शोक प्रस्ताव पारित

जनमंथन, जयुपर। भाजपा के वरिष्ठतम नेता और बीसूका उपाध्यक्ष डॉक्टर दिगंबर सिंह का शुक्रवार सुबह निधन हो गया है। राजधानी के एटरनल हर्ट केयर हॉस्पिटल में शुक्रवार सुबह अंतिम सांसें ली। दिगंबर सिंह के निधन की सूचना मिलते ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे अस्पताल पहुंची। इस दौरान राजस्थान के कई मंत्री विधायक, भाजपा पदाधिकारी और जनप्रतिनिधियों का भी अस्पताल में हुजूम उमड़ पड़ा।

डॉक्टर दिगंबर सिंह लंबे अरसे से कैंसर से पीड़ित थे और उन्हें फेंफडों में संक्रमण बढने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इससे पहले कैंसर से लड़ते हुए डॉक्टर दिगंबर सिंह पूरी तरह स्वस्थ्य हो चुके थे। डॉक्टर दिगंबरसिंह मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के काफी करीबी और वफादार माने जाते हैं। पहले डीग-कुम्हेर विधानसभा चुनाव और फिर सूरजगढ विधानसभा उपचुनाव हारने के बाद भी मुख्यमंत्री राजे ने उन्हें बीसूका उपाध्यक्ष के पद से नवाजा था। उन्हें केबिनेट मंत्री का दर्जा भी दिया गया था। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने डॉक्टर दिगंबर सिंह के निधन को भाजपा के लिए अपूरणीय क्षति बताया है। उन्होंने कहा कि वे भाजपा की आत्मा थे। वहीं गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि भाजपा ने दिगंबरसिंह के रुप में एक बड़ा स्तंभ खो दिया है।

ताजा खबरेंः-

विवादित दण्ड विधि राजस्थान संशोधन विधेयक का राजस्थान में विरोध
प्रह्लाद गुंजल ने कहा- गुर्जरों को आरक्षण देने में सक्षम नहीं राज.ओबीसी बिल
सवर्ण आरक्षण मामले में घनश्याम तिवाड़ी और मंत्री अरुण चतुर्वेदी के बीच हुई तू-तू मैं-मैं
वकील और पत्रकार भी वसुंधरा राजे के अंधे कानून के खिलाफ, विरोध जारी
विवादित बिल को लेकर राजस्थान की वसुंधरा सरकार घिरी
@ आप का आरोपः 18 IAS अफसरों को बचाने के लिए राजस्थान सरकार ला रही काला कानून
वसुंधरा सरकार का नया कानूनः जज-अफसरों, MP, MLA को सुरक्षा कवच, मी़डिया पर सेंसरशिप

पीडब्ल्यूडी मंत्री यूनुस खान ने कहा कि वे लोगों की आत्मा से जुड़कर रहते थे इसीलिए आज उनके प्रति आंसू रोक पाना सभी के लिए मुश्किल है। खान ने कहा कि राजस्थान की राजनीति में उनकी मौजूदगी बहुत जरूरी लगती थी। डॉ. दिगंबर सिंह के करीबी मित्रों में से एक संसदीय कार्यमंत्री राजेन्द्र राठौ़ड़ की आंखें भी सिंह के निधन पर छलक पड़ी। राजस्व मंत्री अमराराम ने भी उन्हें अश्रपूरित श्रद्धांजलि दी है।

डॉ. दिगंबरसिंह के निधन के बाद मुख्यमंत्री आवास पर सीएमआर में केबिनेट की बैठक बुलाई गई। बैठक में 2 मिनट के मौन के साथ शोक जताया और फिर बैठक में शोक प्रस्ताव पारित कर दिया गया।

Related posts

1 comment

Comments are closed.