सवर्ण आरक्षण मामले में घनश्याम तिवाड़ी और मंत्री अरुण चतुर्वेदी के बीच हुई तू-तू मैं-मैं - Jan Manthan : latest news In Hindi , English
जयपुर पॉलिटिक्स राजस्थान

सवर्ण आरक्षण मामले में घनश्याम तिवाड़ी और मंत्री अरुण चतुर्वेदी के बीच हुई तू-तू मैं-मैं

जनमंथन, जयपुर। राजस्थान पिछड़ा वर्ग विधेयक-2017 पर चर्चा के दौरान गुरुवार को विधानसभा में वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवाड़ी और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री अरुण चतुर्वेदी के बीच जमकर तू तू मैं मैं हुई। हंगामा इतना बढ़ गया कि उपाध्यक्ष राव राजेंद्र सिंह को मामला शांत कराना पड़ा।

ओबीसी संशोधन विधेयक पर बहस के दौरान कांग्रेसियों ने जमकर हंगामा कर दिया। हाथों में तख्तियां लिए कांग्रेसियों ने गुर्जरों की हत्यारी सरकार जैसे नारे लगाए। इस दौरान घनश्याम तिवाड़ी ने कहा कि हम आरक्षण के पक्ष में हैं, लेकिन ब्राह्मण, कायस्थ, राजपूत सहित अन्य पिछड़ा वर्ग (ईबीसी) की जातियों के मामले पर सरकार ने कुण्डली मार ली है।

संबंधित खबरेंः

प्रह्लाद गुंजल ने कहा- गुर्जरों को आरक्षण देने में सक्षम नहीं राज.ओबीसी बिल

राजस्थान के सवर्णों को ईबीसी कोटे में जल्द मिलेगा आरक्षण

राजस्थान सरकार OBC कोटे में देगी गुर्जरों को 5 फीसदी आरक्षण

चाहे ST में दो या OBC में, गुर्जरों को 15 दिन में चाहिए 5 फीसदी आरक्षण

@  दक्षिणा दे सरकार तो SBC आरक्षण पर मेरे पास अचूक तरीके-घनश्याम तिवाड़ी

इस पर अरुण चतुर्वेदी खड़े हो गए और कहा कि सांगानेर विधायक बेतुकी बात करते हैं। पिछली सरकार ने इसका आयोग ही नहीं बनाया। इस पर दोनों के बीच जमकर बहस हुई।

चतुर्वेदी ने कहा कि इस पर आज बहस करवा लो। संसदीय कार्यमंत्री राजेंद्र राठौड़ भी खड़े हो गए। हल्ला बढ़ता देख विधानसभा उपाध्यक्ष राव राजेंद्र ने तीनों को शांत कराया और कहा कि सभी को अपनी बात रखने का हक है। उधर कांग्रेसियों के हल्ला करने पर राठौड़ और चतुर्वेदी ने कहा कि हिम्मत हैं तो आप सभी कहा कि इस आरक्षण के विरोध में हो।

इससे पहले सदन में हंगामे को लेकर राव राजेंद्र ने नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि आप लोग तय कीजिए कि इस माहौल में इस विधेयक पर चर्चा होनी चाहिए। कम से कम शिष्टाचार तो रखना चाहिए। विरोध करने का भी एक तरीका है।

Related posts