November 17, 2018
breaking news देश पॉलिटिक्स

पेट्रोल डीजल हुआ 2 रूपये लीटर सस्ता, सरकार ने घटाई एक्साइज ड्यूटी

जनमंथन, नई दिल्ली। पेट्रोल-डीज़ल के दामों में बढोतरी के बाद सरकार के खिलाफ बन रहे माहौल ने शायद सरकार को चेता दिया है। मोदी सरकार ने आम आदमी को महंगाई से कुछ राहत देने के लिहाज से पेट्रोल और डीजल पर बेसिक एक्साइज ड्यूटी में 2 रुपये प्रति लीटर की कटौती का निर्णय लिया है। 4 अक्टूबर से यह फैसला लागू होगा।

बताया जा रहा है कि एक्साइज ड्यूटी की इस कटौती से केन्द्र सरकार पर सालाना 26,000 करोड़ रुपये का भार पड़ेगा। केन्द्र सरकार के इस फैसले के बाद अब राज्य सरकारों पर भी टैक्स की दरें करने का पूरा दबाव है ऐसे में राज्यों में पेट्रोल, डीजल पर वैट कम हो सकता है।

कुछ दिनों पहले ही पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान कह चुके हैं कि राज्य सरकारों को भी आम जनता की राहत के लिहाज से टैक्स दरों में कमी करनी चाहिए। केन्द्र सरकार के इस फैसले के बाद आम आदमी के अलावा पेट्रोल और डीजल का उपयोग करने वाले उद्योगों को भी राहत नसीब होगी।

पढेंः पेट्रोल-डीजल की ऊंची दरों पर बेतुका बयान देने वाले मंत्री जेके अल्फॉंस का जयपुर में कांग्रेस ने फूंका पुतला

बता दें कि अभी केंद्र सरकार पेट्रोल पर 21.48 रुपये प्रति लीटर जबकि डीजल पर 17.33 रुपये प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी वसूल रही है। दूसरी ओर राज्य सरकारें पेट्रोल पर अधिकतम 47 फीसदी और डीजल पर 28 फीसदी तक वैट लगा रही है। देश में लागू नई कर व्यवस्था जीएसटी से भी पेट्रोल और डीजल दोनों को बाहर रखा हुआ है।

पढेंः पेट्रोल डीज़ल के दामों में बढ़ोतरी सरकार की मनमानी, जानिए – ये है पूरी कहानी

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल (क्रूड ऑयल) की कीमतें 55 फीसदी तक गिरने के बावजूद करीब सालभर से पेट्रोल और डीजल के दामों में बढोतरी हो रही थी। इस बीच महंगाई की मार झेल रही आम जनता ने भी पेट्रोल-डीजल पर टैक्स कम करने की मांग उठा रही थी। विपक्ष भी पेट्रोल डीजल की ऊंची दरों को लेकर आंदोलन कर रहा था।

पढेंः पेट्रोल पंपों पर इलेक्ट्रोनिक चिप का गोरखधंधा, 7 मामलों में दो दर्जन गिरफ्तार

केन्द्र सरकार के नोटबंदी और जीएसटी लागू करने के दोनों ही कदम व्यापारियों और आम आदमी को परेशानी में डालने वाले साबित हुए। पहले देश की जनता को लग रहा था इससे कालेधन पर लगाम कसेगी, भ्रष्टाचार मिटेगा तो महंगाई खत्म हो जाएगी। मोदी सरकार की ये दोनों ही योजनाएं भारत की जनता और व्यापारिक वर्ग के लिए गाल काटू साबित हुई।

पढेंः गुरमीत राम रहीम की गोद ली बेटी हनीप्रीत कर सकती है पंचकुला पुलिस के सामने सरेंडर

ऊपर से पिछले तीन सालों में अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल (crude oil) की कीमतों में 55 फीसदी तक गिरावट आई, बावजूद इसके केन्द्र सरकार ने ज्यादा राजस्व जुटाने के लिए केन्द्रीय करों में खूब बढोतरी की। राज्य सरकारें भी इसमें पीछे नहीं रहीं, राज्यों ने वैट में भी बढोतरी की।

पढेंः भूमि अवाप्ति के खिलाफ जयपुर के नींदड़ में ‘जमीन समाधि सत्याग्रह’

कुछ महिनों से सरकार के इस रवैये के खिलाफ आम जनता की प्रतिक्रिया टीवी चैनल्स, न्यूज पेपर्स और सोशल मीडिया पर आक्रामक हुई है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता भी इससे प्रभावित हुई है।

नई दिल्ली में पेट्रोल की रेट 70.88 रुपये प्रति लीटर है तो डीजल की रेट 59.14 रुपये प्रति लीटर है। इस वर्ष 4 जुलाई से पेट्रोल की कीमतों में 7.8 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत में प्रति लीटर 5.7 रुपये प्रति लीटर की बढोतरी हुई है।

Related posts

1 comment

Comments are closed.