जयपुर राजस्थान

नगर निगम साधारण सभा की बैठक को लेकर कांग्रेस पार्षद दल की रणनीति साफ, BVG कंपनी के घोटाले और अन्य मुद्दे उठाएंगे सभा में

जनमंथन, जयपुर। जयपुर नगर निगम में 22 सितम्बर को होने वाली साधारण सभा की बैठक के संबंध में गुरुवार को कांग्रेस पार्षद दल की प्रीबोर्ड बैठक एक निजी होटल में हुई। इस बैठक का नेतृत्व नगर निगम के उपनेता प्रतिपक्ष धर्मसिंह सिंघानिया ने किया। बैठक की अध्यक्षता जयपुर शहर महासचिव विमल यादव और मनोज मुदगल ने की। कांग्रेस पार्षद दल की बैठक में पार्षदमंजू शर्मा, कमल वाल्मिकी, सुमन गुर्जर, रमेश बैरवा, मोहनलाल मीणा, मुकेश शर्मा, मो. शफीक, उमरदराज, लक्ष्मणदास मोरानी, कजोड़मल सैनी, नाहिद अख्तर सहित कई पार्षद शामिल हुए।

कांग्रेस पार्षद दल की इस बैठक में मीडिया से मुखातिब होते हुए शुक्रवार को होने वाली साधारण सभा के बारे में जानकारी दी गई। उपनेता धर्मसिंहसिंघानिया ने शहर में डोरटूडोर कचरा संग्रहण का काम कर रही बीवीजी कंपनी पर 24.60 करोड़ रूपये के भारी घोटाले का आरोप लगाया है। सिंघानिया का आरोप है कि बीवीजी कंपनी जयपुर शहर में डोरटूडोर कचरा संग्रहण का काम ठीक तरह से नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि कचरा संग्रहण का काम शहर में पूरी तरह फेल साबित हो रहा है। सिंघानिया ने कहा कि बीवीजी कंपनी के पास पूर्ण संसाधन को अभाव है। उन्होंने यह भी कहा कि समय पर घरों से कचरा संग्रहण और कचरा डिपो से कचरा उठाने का काम ठप्प पड़ा है। सिंघानिया ने कहा कि बीवीजी कपंनी ने अपना फायदा देखते हुए कचरा संग्रहण कार्य को छोटी फर्मों को सबलेट कर दिया है।

यह भी पढेंः चोरी की ट्रेक्टर ट्रॉली का पुलिस कान्सटेबल ने किया 50 हजार में सौदा

सिंघानिया ने यह भी आरोप लगाया कि जयपुर की जनता की गाढ़ी कमाई का पैसा नगर निगम इस कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए दिया जा रहा है। उन्होंने इसे सीधे तौर पर निगम प्रशासन का भ्रष्टाचार करार दिया है। सिंघानिया ने यह भी आरोप लगाया कि इस खेल में पूरा नगर निगम प्रशासन, मंत्री और राज्य सरकार तक लिप्त है। उन्होंने जानकारी दी कि कांग्रेस पार्षद दल की ओर से बीवीजी कंपनी के खिलाफ एसीबी में 11 अगस्त 2017 को शिकायत भी दर्ज करवाई जा चुकी है। लेकिन निगम प्रशासन की ओर से अभी भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

यह भी पढेंः राम रहीम की राजदार हनीप्रीत छुपी है राजस्थान में!

सिंघानिया ने कहा कि नगर निगम की साधारण सभा के एजेण्डे में इस मुद्दे को पुरजोर तरीके से उठाया जाना चाहिए था लेकिन महापौर ने इस जनहित से जुडे मुददे को भी गौण कर दिया। उन्होंने बताया कि साधारण सभा की बैठक में इन मुद्दों को रखा जाएगा। इसके अलावा शहर की टूटीफूटी सड़कों, क्षतिग्रस्त सड़कों के चलते आम होती दुर्घटनाओं से जुड़ा मुद्दा भी कांग्रेस पार्षद दल की ओर से साधारण सभा की बैठक में उठाया जाएगा।

यह भी पढेंः गली से ग्लैमर जगत तक का वस्त्र शिल्प नजर आया वस्त्र-2017

पत्रकारों से बातचीत करते हुए सिंघानिया ने स्वच्छ भारत मिशन पर भी सवाल खडे किए। उन्होंने कहा कि शौचालय निर्माण की राशि लाभान्वितों को दी जानी थी जो कागजों में बंद पड़ी है। सिंघानिया ने कहा कि कागजों में वार्डों को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) बताया जा रहा है।

ताज़ा खबरेंः 

@ राजस्थान के अल्पसंख्यकों के शैक्षणिक विकास के लिए 22 को जयपुर में सेमिनार

राजस्थान में सांस छोड़ती मुख्यमंत्री जन आवास योजना, बिल्डर नहीं ले रहे रुचि

रोडवेजकर्मियों के हित में बड़ा फैसला,RSRTC को मिलने 45000 करोड़

Related posts