breaking news जयपुर राजस्थान

बाढ़ प्रभावित इलाकों के लिए CM के कड़े निर्देश, रेस्क्यू ऑपरेशन से 1050 लोगों को निकाला सुरक्षित

जनमंथन, जयपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे राजस्थान के अतिवृष्टि प्रभावित इलाकों में किए जा रहे राहत और बचाव कार्यों की लगातार निगरानी और समीक्षा कर रही हैं। जालोर, सिरोही, पाली, राजसमंद और बाड़मेर जिलों में राज्य सरकार के साथ ही जिला प्रशासन रात-दिन राहत कार्यों में जुटा है। इन जिलों में अभी तक 1050 से ज्यादा प्रभावित लोगों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा चुका है। जालोर, सिरोही, पाली और बाड़मेर में प्रभावित व्यक्तियों को सुरक्षित ठहराने के लिए 20 विशेष राहत शिविर लगाए गए हैं। इन शिविरों में अब तक 525 से ज्यादा लोगों को ठहराकर राहत प्रदान की गई है।

अमित शाह के दौरे ने किया वसुंधरा के विरोधियो का मुंह बंद

जालोर में 528, सिरोही में 235, पाली में 165, बाड़मेर में 120 और राजसमंद में 3 लोगों को रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर सुरक्षित बचाया गया है। वहीं मवेशियों को भी सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के प्रयास जारी हैं। रास्ते ब्लॉक होने के चलते जालोर के बाढ़ग्रस्त स्थानों तक एनडीआरएफ (NDRF) की टुकड़ी और नावों को हैलीकॉप्टर द्वारा राहत कार्यों के लिए भिजवाया गया।

सुंधरा के नेतृत्व में ही लड़ेगी भाजपा राजस्थान में आगामी चुनाव- अमित शाह

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा है कि जिन जिलों में बाढ़ के हालात बने हुए हैं, वहां स्थानीय प्रशासन, पुलिस, एनडीआरएफ, सेना, वायु सेना और पैरामिलेट्री फोर्स सहित अन्य लोगों के सहयोग से राहत और बचाव कार्य में कोई कमी नहीं आने दी जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार बाढ़ नियंत्रण को लेकर हर मोर्चे पर गम्भीरता के साथ काम कर रही है और लगातार उच्च स्तरीय निगरानी की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि चिकित्सा और स्वास्थ्य, जनस्वास्थ्य और अभियांत्रिकी, विद्युत और सार्वजनिक निर्माण विभाग सहित अन्य संबंधित विभागों को भी मुस्तैद रहने और आपात स्थितियों से निपटने के लिए पूरी सजगता और सक्रियता से काम करने के निर्देश दिए गए हैं।

एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, सेना के लगातार बचाव कार्य जारी
बाढ़ प्रबन्धन, राहत एवं बचाव कार्यों के लिए इन जिलों में एनडीआरएफ एवं एसडीआरएफ की चार-चार टीम, सीआरपीएफ की एक और सेना की तीन टीमें, होमगार्ड सदस्यों और स्थानीय टीमों के साथ निरन्तर काम कर रही हैं। राहत कार्यों के लिए वायु सेना के दो हैलीकॉप्टर भी लगाए गए हैं। जिला प्रशासन और स्थानीय सहयोग से बाढ़ प्रभावितों को लगातार फूड पैकेट और दवाइयों सहित जरूरी सामग्री वितरित की जा रही है।

वसुंधरा ने कहा- जल्द होगा राजस्थान भ्रष्टाचार मुक्त प्रदेश

Related posts