अनोखी दुनिया जयपुर राजस्थान

इस भव्य सरकारी इमारत में है भूतों का डेरा, 6 की हो चुकी है मौत, अब होगा हवन

जनमंथन, जयपुर। 21 वीं सदी में आज विज्ञान ने इतने पैर पसार लिए हैं कि अंधविश्वास के लिए कोई जगह नहीं बची है, लेकिन आश्चर्य की बात है कि राजस्थान के एक बड़े महकमे की सरकारी इमारत पर अब कथित भूतों और प्रेतात्माओं का डेरा है। मामला है राजधानी जयपुर के जेएलएन मार्ग स्थित इंदिरा गांधी पंचायतीराज संस्थान की।

दरअसल पंचायती राज विभाग से संबंधित इस इमारत में पिछले 8 सालों में काम करने वाले 6 कर्मचारियों की नौकरी पर रहते हुए अकाल मौत हो चुकी है। भव्यता लिए खड़ी राजधानी के जेएलएन मार्ग स्थित इस इमारत को अब कथित प्रेतात्माओं से छुटकारा दिलाने तैयारी है।

बताया जाता है कि पिछले 30 साल में केवल इंदिरा गांधी पंचायती राज संस्थान में काम करने वालों महज एक कर्मचारी भरतसिंह ही सेवानिवृत हुए हैं। इस इमारत के इर्द-गिर्द मंडराने वाले चमगादड़ों को हटाने का काम राज्य सरकार ने 74 हजार 750 रुपए में एक निजी फर्म को सौंपा है।

20 साल से विवादों से नाता है इस कब्रिस्तान का

जानकारी के मुताबिक चमगादडडों को हटाने का काम शुरु हुआ ही था कि यहां तैनात केयर टेकर रामकरण शर्मा की भी हृदयघात से 24जून को मृत्यु हो गई। चमगादड़ों को हटाने के काम भी शर्मा ही देख रहे थे और उन्हें अभी रिटायर होने में एक साल बाकि था।

हिल जाएंगे इस श्मशान घाट को देखकर 

इस घटना के बाद संस्थान मे कार्यरत कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। खौफ में जी रहे कर्मचारियों के मुताबिक यह इमारत रिटायर होने से पहले ही कर्मचारियों की जीवन लीला समाप्त कर रही है। एक बार फिर से हिम्मत करते हुए कर्मचारियों ने स्वयं के खर्चे पर यहां हवन की योजना बनाई है। हवन के लिए अतिरिक्त निदेशक ने भी मंजूरी दे दी है।

बताते हैं कि 1984 में बनी इंदिरा गांधी पंचायतीराज संस्थान की इस इमारत की जगह पहले शमशान हुआ करता था।

Related posts