SIR को खत्म करे सरकार, नहीं तो MP, महाराष्ट्र से ज्यादा राजस्थान सुलगेगा किसान आंदोलन की आग में - Jan Manthan : latest news In Hindi , English
breaking news जयपुर देश पॉपुलर न्यूज़ पॉलिटिक्स राजस्थान

SIR को खत्म करे सरकार, नहीं तो MP, महाराष्ट्र से ज्यादा राजस्थान सुलगेगा किसान आंदोलन की आग में

जनमंथन, जयपुर। भाजपा विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने राजस्थान सरकार को चेताया है कि या तो सरकार एसआईआर को भूमि अधिगृहण बिल से खत्म कर दे नहीं तो राजस्थान में किसान आंदोलन की आग एमपी, महाराष्ट्र से भी ज्यादा सुलगेगा। तिवाड़ी ने कहा कि राजस्थान के किसान पूरे देश के किसानों से ज्यादा पीड़ित हैं जिनको कमरतोड़ मेहनत के बावजूद भी अपनी फसल का भी सही दाम नहीं मिल पा रहा है। तिवाड़ी ने कहा कि पिछले साल प्याज की बंपर फसल को 2 रुपये किलो में किसानों को बेचना पड़ा। उन्होंने कहा कि मिर्च की फसल 1 रुपये किलो में किसानों ने सड़क पर डाली हैं। उन्होंने कहा कि सरसों की फसल का भी समर्थन मूल्य किसानों को नहीं मिल पाया है।

घनश्याम तिवाड़ी ने कहा कि राजस्थान की वसुंधरा सरकार भूमि अधिगृहण विधेयक लाई थी। उन्होंने कहा कि इस विधेयक को विधानसभा में जबरन पारित कराने का प्रयास किया लेकिन मैंने इसका विरोध किया जिसके बाद प्रवर समिति को सौंप दिया गया था। उन्होंने बताया कि प्रवर समिति ने इस विधेयक को हरी झंडी दिखा दी है। तिवाड़ी ने कहा कि यह कानून अब कभी भी लागू किया जा सकता है। उन्होंने इस विधेयक (कानून) को SEZ से भी ज्यादा खतरनाक बताया है।

भाजपा विधायक ने कहा कि भूमि अधिगृहण विधेयक (Land acquisition bill) में एसआईआर (स्पेशल इन्वेस्टमेन्ट रीजन) के निमय का प्रावधान किया गया है। उन्होंने बताया कि इस बिल के माध्यम से किसान को अपनी जमीन देने के लिए मजबूर किया जायेगा। उन्होंने बताया कि इस बिल की धारा 49 बडी खतरनाक है जिसमें भूमि अधिगृहण का विरोध करने पर 6 माह के कारावास की सजा का प्रावधान भी है।

घनश्याम तिवाड़ी ने कहा कि राजस्थान का किसान मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र से भी ज्यादा आक्रोशित है । उन्होंने कहा कि सरकार SIR (Special investment region) बिल को वापस ले नहीं तो दीनदयाल वाहिनी जन क्रान्ति अभियान चलाएगी। तिवाड़ी ने कहा है कि दीनदयाल वाहिनी सरकार के खिलाफ सभी लोकतांत्रिक और वैधानिक माध्यम अपनाएंगे।

Related posts