breaking news उत्तर प्रदेश क्राइम देश

मथुरा सर्राफा लूट कांड के आरोपी पुलिस गिरफ्त में, रंगा-बिल्लास गैंग के हैं सभी आरोपी

जनमंथन, मथुरा। मथुरा में सर्राफा लूट कांड के सभी छ: आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्त में लिया है। सोमवार को मथुरा के बीच बाजार स्थित सर्राफा व्यवसायी मयंक अग्रवाल की दुकान को लूटने के लिए 6 हथियारबंद लुटेरे पहुंचे थे। लूट का विरोध करने पर बदमाशों ने वहां मौजूद चार लोगों की गोली मार दी थी जिनमें से दो की मौके पर ही मौत हो गई जबकि अन्य दो लोग गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती हैं।

पुलिस के अनुसार रंगा-बिल्लाभ गैंग के बदमाशों ने इस वारदात को अंजाम दिया था। पकड़े गए आरोपी चीनी उर्फ कामेश, रंगा उर्फ राकेश, नीरज, आदित्यद, आयुष और छोटू रंगा बिल्ला गैंग के हैं। इनमें बिल्लार पहले ही एक मर्डर केस में जेल में बंद है। बिल्ला ने दिनदहाड़े पान की दुकान पर एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्याक कर दी थी। पुलिस गिरफ्त में आए सभी बदमाश घटना के वक्त सीसीटीवी फुटेज में भी नजर आ रहे हैं।

शनिवार सुबह पकड़े गए इन 6 आरोपियों में से रंगा और नीरज के ऊपर एक हत्या के मुकदमे में पहले से ही पांच-पांच हजार रुपये का ईनाम जारी किया हुआ था दोनों सगे भाई हैं और तीन साल से फरार चल रहे थे। लूट की वारदात के बाद से ही ये बदमाश मथुरा में ही घर बदल कर छुप रहे थे। एसएसपी विनोद मिश्रा के अनुसार इन्हेंर मथुरा के होली गेट इलाके के जोगियापाड़ा मोहल्ले में मौजूद इनके घर से पकड़ा गया है। होली गेट पर ही इन लोगों ने वारदात को अंजाम दिया था।

एसएसपी विनोद मिश्रा के मुताबिक आरोपियों का घर ऐसी जगह पर है जहां ढाई सौ मीटर दूर से ही आने वाला नजर आ जाता है, इसके चलते पहले भी कई बार ये बदमाश पुलिस को चकमा देकर भाग चुके हैं। 60 पुलिस के जवानों ने पूरे इलाके को घेरकर इन बदमाशों को पकड़ा है। घर पर दबिश देने के दौरान इन बदमाश लुटेरों ने पुलिस पर भी गोलियां चलाई जिसमें सात पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। बदमाशों में रंगा और नीरज भी घायल हुए हैं। पुलिस के मुताबिक इन रंगा बिल्ला गैंग का इलाके में इतना खौफ था कि वारदात के दौरान ही स्थाघनीय बाजार के लोग इनको पहचान गए थे लेकिन कोई भी कुछ बोलने को तैयार नहीं था।

योगी सरकार बनने के बाद यह यूपी की सबसे बडी आपराधिक घटना मानी जा रही है। इस वारदात के बाद सरकार को जमकर फजीहत झेलनी पड़ी। खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस पर बयान देने के लिए आगे आए। इसके साथ ही डीजीपी सुलखान सिंह और मंत्री श्रीकांत शर्मा ने घटनास्थल का विजिट भी किया। इस घटना के बाद मथुरा सांसद हेमामालिनी के खिलाफ जमकर प्रदर्शन और नारेबाजी हुई है।

यह पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में लूट की घटना साफ-साफ नजर आ रही है। लुटेरे अपने चेहरों को हेलमेट और कपड़ों से ढके हुए थे। आरोपी दुकान के शीशे के गेट को खोलकर अंदर दाखिल हुए और दुकान मालिक ने बदमाशो को रोकने का प्रयास किया तो उन्होने उन्हें गोली मार दी। इसके बाद आसानी से लुटेरों ने दुकान में रखे सोने और नकदी पर हाथ साफ किया। इस घटना में दुकान मालिक विकास अग्रवाल (30) और डैम्पीयर नगर निवासी मेघ अग्रवाल (34) की मौत हो गई। विकास अग्रवाल का छोटे भाई मयंक अग्रवाल, दुकान में काम करने वाले अशोक साहू और महमूद अली का अस्पताल में इलाज चल रहा है।

यह घटना मथुरा के व्यस्त बाजार होली गेट से कुछ ही दूरी पर कोयला गली के ‘मयंक चेन्से’ में हुई थी। गौरतलब है कि होली गेट के इस व्यस्त बाजार में हमेशा पुलिस तैनात रहती है।

Related posts