November 17, 2018
breaking news क्राइम देश

योगी के राज में दबंगई का आलम, नाबालिग को बंधक बनाकर लूटी अस्मत

जनमंथन, बांदा (यूपी)। महिलाओ की अस्मत की हिफाज़त करने के योगी सरकार के तमाम दावे और प्रयास खुद योगी सरकार की पुलिस के आगे घुटने टेक रहे हैं। दबंगो और पुलिस की जुगलबंदी के चलते बलात्कारी दबंगो के खिलाफ सख्त कार्यवाही तो दूर पुलिस एफआईआर तक दर्ज नहीं कर रही है । ऐसा ही एक मामला बाँदा में सामने आया है जहाँ एक किसान की नाबालिग बेटी को उसके ही खेत मालिक के दबंग लड़को ने अगवा कर लिया और बंधक बना कर गैंगरेप कर दिया ।

लड़की के अगवा होने की सूचना जब परिजनों ने पुलिस को दी तो दो दिन बाद पुलिस ने लड़की को रहस्यमय ढंग से थाने में ही परिजनों को सौंप दिया, लेकिन लड़की के बयान के बाद भी मुकदमा दर्ज करने के बजाय उसे थाने से भगा दिया । अब पीड़िता न्याय के लिए अपने परिजनों के साथ एसपी कार्यालय के चक्कर लगा रही है ।

मामला बाँदा के नरैनी थाना क्षेत्र का है, जहाँ किसान मज़दूर रज़्ज़ाक ने गाँव के दबंग रामपाल का खेत बटाई में ले रखा है। पीड़ित परिवार का आरोप है कि 10 अप्रैल की शाम रज़्ज़ाक अपनी बीमार बेटी को देखने उसकी ससुराल गया था और उसकी पत्नी फसल काटने खेत गयी थी । इसी दौरान दबंग की पत्नी गीता ने उसकी 16 साल की बेटी को अपने घर बुलाया और वहां मौजूद उसके दबंग बेटे लवकुश और ओमप्रकाश ने उसे दबोच लिया। दोनों ने नाबालिग को घर में ही बंधक बना लिया और देर रात उसे मुंह और हाथ पैर बांधकर अतर्रा ले गए। अतर्रा में उसके साथ दोनों ने बलात्कार किया और दो दिन बाद बीती रात नरैनी थाने की पुलिस के हवाले कर दिया ।

पीड़िता का आरोप है कि थाने में पुलिस ने उस पर सुलह करने और मुंह न खोलने की धमकी दी और उसकी आपबीती सुनने के बाद भी बिना कोई कार्यवाही किये उसे थाने से भगा दिया । पीड़िता के पिता का कहना है कि जैसे ही बेटी गायब हुई उसने थाने में तहरीर दी लेकिन पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की और दो दिन बाद रात 10 बजे एसओ ने उसे फ़ोन करके बुलाया और उसकी बेटी उसके हवाले कर दी। पीडिता के पिता ने यह भी बताया कि कार्यवाही करने के बजाय उसे थाने से भगा दिया । पीड़ित परिवार का कहना है कि पुलिस की मिलीभगत से उनकी बेटी के साथ दुष्कर्म किया गया है ।
नरैनी थाना पुलिस से निराश पीड़िता ने अपने परिवार के साथ एसपी कार्यालय पहुंचकर न्याय की गुहार लगायी है और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी लिखित तौर पर अपनी फ़रियाद भेजकर न्याय की मांग की है । वहीँ इस संबंध में पुलिस अधीक्षक का का कहना है की मामले की जानकारी मिली है, और इस मामले की जाँच कर विधि संगत कार्यवाही की जायेगी ।

Related posts