स्टाम्प ड्यूटी पर 20 फीसदी टैक्स बढाने के फैसले को वापस ले सरकार- खाचरियावास - Jan Manthan : latest news In Hindi , English
February 6, 2019
जयपुर राजस्थान

स्टाम्प ड्यूटी पर 20 फीसदी टैक्स बढाने के फैसले को वापस ले सरकार- खाचरियावास

जनमंथन, जयपुर। स्टाम्प ड्यूटी पर 20 फीसदी अतिरिक्त टैक्स वसूली के खिलाफ राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रवक्ता प्रतापसिंह खाचरियावास ने आंदोलन का ऐलान कर दिया है। उन्होंने राज्य सरकार की ओर से 1 अप्रैल से बढाई जा रही स्टाम्प ड्यूटी और गौ– संरक्षण के नाम पर 10 फीसदी टैक्स वसूली को प्रदेश की जनता के साथ धोखा बताया है।

खाचरियावास ने कहा कि राज्य सरकार हर साल करीब पांच हजार करोड़ रूपये स्टाम्प ड्यूटी से वसूल रही है, जिस पर 20 फीसदी टैक्स बढ़ाने से अब प्रदेश की जनता पर सालाना एक हजार करोड़ रूपये का अतिरिक्त भार बढ़ेगा। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने एक निजी कंपनी स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया को बीच में स्टाम्प ड्यूटी बिक्री पर कमीशन के अधिकार दिए हैं, जो सीधे-सीधे भ्रष्टाचार है।

खाचरियावास ने कहा है कि अब वेण्डर सीधे कंपनी के जरिये स्टाम्प खरीदकर बेचेगें तो 0.65 फीसदी पैसा राज्य सरकार द्वारा कमीशन के रूप में (करीब 33 करोड़ रुपये) सालाना कंपनी (stock holding corporation of india) को देना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि इस कंपनी को बिचौलिया बनाने की कोई जरूरत नहीं थी, यह सीधे-सीधे भ्रष्टाचार है।

उन्होंने कहा कि अचानक मंदी के दौर में स्टाम्प ड्यूटी पर 20 फीसदी टैक्स लगाकर वसुंधरा सरकार ने जनता की पीठ में खंजर घोपा हैं। खाचयिवास ने कहा कि इससे पहले भी 8 मार्च 2016 को राज्य सरकार ने शपथ पत्र बनाने के लिये दस रूपये के स्टाम्प की कीमत बढ़ाकर पचास रूपये और एग्रीमेंट के लिये 100 रूपये के स्टाम्प की कीमत बढ़ाकर 500 रूपये कर दी थी। अब 1 अप्रेल 2017 से 20 फीसदी टैक्स बढ़ा देने से बाजार में इसका सीधा भार आम आदमी पर पड़ेगा और स्टाम्प महंगा होने से बाजार में बिकने वाली हर वस्तु और कार्य महंगे हो जायेगें।

खाचरियावास ने कहा है कि विधानसभा सत्र के दौरान स्टाम्प ड्यूटी पर टैक्स लगाने की चर्चा तक नहीं की गई और अचानक इतना बड़ा वित्तीय भार प्रदेश की जनता पर थोप दिया गया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी राज्य सरकार से तुरन्त प्रभाव से स्टाम्प ड्यूटी पर लगाये 20 फीसदी अधिभार को हटाने की मांग कर रही है अगर ऐसा नहीं हुआ तो कांग्रेस को आंदोलन के लिये मजबूर होना पडेगा।

Related posts