किसी आलीशान रिसोर्ट से दिखने वाली यह जगह क्या है ? जानकर दंग रह जाएंगे - Jan Manthan : latest news In Hindi , English
अनोखी दुनिया देश

किसी आलीशान रिसोर्ट से दिखने वाली यह जगह क्या है ? जानकर दंग रह जाएंगे

कुचामन सिटी (नागौर)। श्मसान घाट का नाम जेहन में आते ही एक अजीब तरह का ख़ौफ सताने लगता है। खौफ भी ऐसा कि रौंगटें खडे कर देने वाला। खालिस राख में सने श्मशानी धुएं के बीच से कुछ धुंधली तस्वीरों का ही तो यह खौफ होता है। भले ही यह तस्वीरें कपोल कल्पित कहानियों, किस्सों या फिर आधुनिक जगत की फिल्मों से निकलकर बाहर आई हों। बचपन में दादी, नानी की कहानियां भी राजा, रानी के किस्सों से भूतहा श्मशानी धुएं तक कभी कभार ले जाती रही हैं।

लेकिन क्या आप सोच सकते हैं, राजस्थान में एक ऐसा अनोखा श्मसान घाट भी मौजूद है जिसे देखकर आपका श्मशानी खौफ हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा। यह श्मशान घाट है नागौर जिले के कुचामन सिटी का शमसान घाट। इस श्मशान घाट (मुक्तिधाम) को दर्शनीय स्थल के रूप में विकसित किया गया है। श्मशान घाट के नाम से खौफजदा लोग भी अगर इसके पास से गुजरते हैं तो इसके रमणिक नजारे देखकर सबकुछ भूल जाते हैं। इसके नजारे किसी पिकनिक स्पॉट या पर्यटन स्थल से नजर आते हैं।

पूरे देश के लिए मिसाल बन चुके इस श्मशान घाट के पास से गुजरने के नाम से कभी लोगों के
रौंगटे खडे हो जाते थे। महिलाओं के लिए यहां आना तो एक सपने जैसा था लेकिन वही शमसान अब पर्यटन स्थल के रूप में मशहूर हो गया है।

यह नजारा जो आप देख रहे है । जहां स्थानीय निवासी घूमने के लिए आते है क्योकि यह शमशान अब पार्क के रूप में नजर आने लगा है । लोगो का कहना है कि शमसान के नाम से डर लगता था वहां अब इस नये रूप में उनका डर निकल गया । यंही नही जो भी इस श्मसान के बारे मे सुनता है जो इसे देखने जरूर आता है और ये शमसान अब धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप मे अपनी पहचान रखता है।

कुचामन सिटी के सत्यनारायण बुड़सूवाला के जुनून के चलते आज यह श्मसान पर्यटन स्थल के रुप में विकसित हुआ है। श्मसान की नई समिति से जब स्थानीय युवा जुड़े तो उन्होने सत्यनारायण अग्रवाल का सपना पूरा करने की ठान ली। और अथक प्रयासों से शमसान घाट का रूप बदल दिया गया। आज यह वीरान शमसान घाट आबाद पार्क के रूप में तब्दील हो गया है । शमसान घाट पर लगे फव्वारे और रंग बिरंगी लाईटे हर किसी को लुभा रही है।

-कुचामन सिटी से ओमप्रकाश कुमावत की विशेष रिपोर्ट

Related posts