November 17, 2018
देश पॉपुलर न्यूज़

बीएसएफ जवानों की फायरिंग पर गृहमंत्री ने मांगी रिपोर्ट

अगरतला। शुक्रवार को त्रिपुरा-बांग्लादेश सीमा के नजदीक हुई बीएसएफ जवानों की फायरिंग में हुई तीन आदिवासियों की मौत के मामले में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने रिपोर्ट मांगी है। बीएसएफ ने जांच के भी आदेश भी जारी कर दिए हैं।

इस घटना को लेकर सीमा सुरक्षा बल और स्थानीय पुलिस अलग-अलग बयान जारी कर रही है। इस घटना पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पर वेदना जाहिर की है। इसके साथ ही उन्होंने घटना की संपूर्ण रिपोर्ट पेश करने के लिए बीएसएफ प्रमुख केके शर्मा को निर्देश दिए हैं।

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार ने घटना को लेकर एक अहम् बैठक ली है। बैठक में ड़ीजी के. नागराज और चीफ सैक्रेट्री संजीव रंजन के साथ चर्चा की गई है संबंधित अधिकारियों को मामले की जानकारी जुटाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा घटना की संवेदनशील मानते हुए भारी पुलिस बल के साथ आईजी केवी श्रीजेश और एसपी तपन कुमार देव बर्मा इलाके में डेरा डाले हैं।

गौरतलब है कि इस घटना के बाद बीएसएफ और स्थानीय पुलिस ने अलग-अलग बयान जारी किए गए हैं। बीएसएफ ने बयान दिया है कि त्रिपुरा फ्रंटियर में भारत-बांग्लादेश सीमा के निकट तैनात बीएसएफ जवानों ने बीओपी भंगपुरा में 40 लोगों को मवेशियों की तस्करी करते देखा। कुछ महिलाएं भी इसमें शामिल थी। बीएसएफ के मुताबिक जवानों ने जब उन्हें रोका और हवाई फायरिंग की तो तस्करों ने लाठियों और हथियारों से हमला बोल दिया। आत्मरक्षा में किए जवाबी हमले में तीन तस्करों की मौत हो गई।

जबकि स्थानीय पुलिस ने जो दावा किया वो बिल्कुल अलग है। पुलिस अधीक्षक भानुपद चक्रवती ने बताया है कि इस मामले में तीन बीएसएफ जवानों के खिलाफ ग्रामीणों ने प्राथमिकी दर्ज कराई है। उन्होंने बताया कि बीएसएफ जवानों ने भंगपुरा में एक जनजातीय महिला से छेड़छाड की वहीं से घटना की शुरुआत हुई। ग्रामीणों द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकता के मुताबिक महिला के शोर मचाने से आए ग्रामीणों और बीएसएफ के बीच संघर्ष हुआ। इस दौरान बीएसएफ (BSF) जवानों ने फायरिंग की, फायरिंग में एक महिला सहित तीन ग्रामीणों की मौत हो गई।

Related posts